महिलाओं की सुरक्षा

 

कुछ वर्ष दिल्ली में हुए दिल दहला देने वाले हादसे पर पूरा देश हतप्रभ था । सभी संवेदनशील लोग अलग अलग तरीके से अपनी नाराजगी व गुस्सा जाहिर कर रहें थे। राजनीतिक, सामाजिक स्तर व दूरदर्शन पर लगातार इस प्रकार के अपराधों को रोकने के लिये कठोर कानून व दोषियों को कठोर दण्ड के प्रावधान करने के लिये दबाव बनाया जा रहा था। लोग कई दिनों तकसे सड़कों पर उतर आये थे।

इन सब के बीच लगातार महिला वर्ग की अस्मिता पर हमले जारी हैं। इसलिये जरूरी है कि समस्या के मूल में जाकर इस समस्या का समाधान निकालने का प्रयास किया जाये।

महिलाओं व पुरुष का आपसी आकर्षण प्राकृतिक है। समाज में अनुशासन बनाये रखने के लिये अलग अलग समय पुरुषों व महिलाओं पर कई प्रकार की बन्दिशें लगाइ जाती रही हैं। इन बन्दिशों के कारण आज से कुछ दशाब्दियों पहले तक काफी हद तक समाज अनुशासित रहा। यदाकदा अपवाद स्वरूप यदि कोई घटना सार्वजनिक होती तो समाज के मान्य प्रतिनिधि जैसे पंचायत तुरन्त ही दोनों पक्षों को सुन कर दोषी को दण्डित कर देते थे। इससे भी अधिक दण्ड होता था दोषी को समाज द्वारा हेय दृष्टि से देखना। सामाजिक बन्धन इतना प्रगाढ़ होता था कि समाज की नजरों में गिरना न सिर्फ दोषी बल्कि उसके परिवार वालों को भी मृत्यु से भी अधिक भयभीत करने वाला लगता था। यही भय लोंगों को अपने बच्चों को अनुशासन में रखने के लिये प्रेरित करता था। यह व्ववस्था लगभग पूरे विश्व में लागू थी। इस संदर्भ में समाज का अर्थ स्थानीय समाज यथा मोहल्ला, बस्ती अथवा गाँव अधिक सटीक बैठता है।

इस व्यवस्था की सफलता के मूल कारण के बारे में यदि हम ध्यान दें तो वे थे –

1 समाज में प्रतिष्ठा बनाये रखने की आवश्कता महसूस करना।

2 समाज में एक दूसरे पर निर्भर रहने की आवश्कता।

3 परिवार में एक मुखिये का होने व अन्य सदस्यों का उस पर निर्भर होना।

4 धर्म में आस्था व अधर्म करने पर भगवान द्वारा दण्डित होने का डर।

5 शिक्षा में अनुशासन पर जोर।

6 धर्म व समाज में सदाचरण पर जोर।

7 समाज में अनुशासित लोगों का सम्मान।

इस व्यवस्था पर राजाओं, नवाबों व अंग्रेजों के शासन काल तक बहुत विशेष अंतर नहीं आया अतिरिक्त इसके कि कुछ शक्ति संपन्न लोग स्वेच्छारी हो गये तथा स्त्रियों पर जोर जबरजस्ती करने लगे। परिणाम स्वरूप निःसहाय समाज ने महिलाओं पर घर से बाहर अकेले निकलने पर बन्दिश लगा कर उन्हें सुरक्षा प्रदान करने का प्रयास किया। इसके बाद सामाजिक व्यवस्था में एक बड़ा बदलाव आया वह था प्रजातन्त्र की स्थापना। लोगों को सरकार में अपने प्रतिनधि चुनने का अधिकार मिला। हर व्यक्ति अपने को शक्ति संपन्न समझने लगा। प्रजातन्त्र ने लोगों को स्वाधीनता अथवा स्वतन्त्रता के सुख को महसूस कराया। लोगों में आत्म विश्वास जागा और प्रगति की रफ्तार तेजी से बढ़ने लगी। धीरे धीरे लोग सामाजिक बन्धन को परतंत्रता समझ कर उससे भी मुक्त होने का प्रयास करने लगे। इन सब प्रयासों में स्वतन्त्रता कब स्वच्छन्दता में बदलने लगी यह कुछ लोगों को ही शायद समझ में आया। ऐसे लोगों की चेतावनी नक्कार खाने में तूती की आवाज सी दब गई। परिणाम स्वरूप सामाजिक व्यवस्था विकृत होने लगी। कुछ लोग अलग से शक्ति के केन्द्र बन कर उभरने लगे। ये शक्ति केन्द्र प्रायः कुछ राजनेता, बाहुबली, साधन संपन्न लोग अथवा धर्म गुरुओं के आस पास उभरे। ये शक्ति केन्द्र गैर कानूनी तरीके अपना कर अपने प्रभाव क्षेत्र का विस्तार करने लगे। अपने प्रभाव के बल पर ये कानून को खरीदने अथवा सबूतों को खत्म करने में सक्षम थे। अतः ये अपने को कानून से ऊपर मानने लगे। अपने विरोध में उठने वाली आवाजों को दबाने के लिये इन लोगों ने अपना

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *