बुलंदियों तक पहुँचाने वाले 9 चमत्कारी मंत्र (दी सीक्रेट लेटर्स आफ ए मांक हू सोल्ड हिज सफारी पर आधारित) लेखकः राबिन शर्मा, प्रकाशकः जैयको बुक्स

सामाजिक दबावों के चलते हम प्रायः अपनी वान्छित राह से कब भटक जाते हैं
पता ही नहीं चलता है। नीचे लिखे नौ मंत्र हमें सही राह दिखाकर बुलन्दियों को
छूने में मददगार हो सकते हैं।
1. स्वयं को पहचाने –
स्वयं को पहचानना आसान नहीं है। हमें ईश्वर ने सबसे बड़ी देन के रूप में अपनी एक पहचान दी है। हम स्वयं को अपनी जिन्दगी जीने के लिये समर्पित करें यह हमारा उनके प्रति कृतज्ञता ज्ञापन करने जैसा होगा। हमें सामाजिक दबाव में न आकर हमें अपने अनुसार, अपने आदर्शों व अपने स्वप्नों को साकार करने प्रयास करते हुए जीना चाहिये। हमें हमारे अन्दर छुपी उम्मीदों, इच्छाओं हमारी ताकत व कमजोरियों को जानने का प्रयास करना चाहिये। हमें मालूम होना चाहिये हम कहाँ तक पहुँचे व किस आरे जा रहे हैं। हमारा हर निर्णय व हर कदम हमारे अपने जीवन को सच्चाई, इमानदारी व केवल अपने अनुसार जीने के समर्पण से निर्धारित होना चाहिये। इस प्रकार हम अवश्य ही उम्मीद से
अधिक सफल जीवन जी सकेगें।
2. डर को गले लगायें –
प्रायः अदृश्य डर का अहसास हमें आगे बढ़ने से रोकता है। इसके चलते हम एक आराम दायक स्थिति में सिमट कर रह जाते हैं। वास्तव यह सबसे कम सुरक्षित स्थिति है. जीवन में सबसे बड़ा खतरा कोई खतरा नहीं उठाना ही है। हम जब हर बार किसी खतरे का सामना करते हैं, तो हमें वह शक्ति वापस मिल जाती है जो हमने डर के कारण खो दी थी। डर के दूसरी ओर हमारी ताकत होती है। हर बार जब हम आगे बढ़ने अथवा उन्नती के लिये कठिनाईयों का सामना करते हैं, डर के बन्धन कमजोर होने लगते हैं। जितना हम डर का सामना करेगें हम अपने को उतना ही मजबूत पायेगें। इस प्रकार निडर व ताकतवर होकर हम अपने सपनों को साकार कर सकेगें।
3. दयालु बने –
जिस प्रकार हमारे शब्द हमारे विचारों को व्यक्त करते हैं, उसी प्रकार हमारे कर्म हमारे विश्वास को प्रकट करते हैं। चाहे जितना भी नगण्य हो, हमारा किसी के प्रति व्यवहार दर्शाता है कि हम स्वयं व अन्य सभी के साथ कैसा व्यवहार करते हैं। यदि हम किसी का अनादर करते हैं तो स्वयं का अनादर करते हैं। यदि हम किसी पर संदेह करते हैं तो स्वयं पर संदेह करते हैं। यदि हम दूसरों के प्रति कठोर हैं तो स्वयं के प्रति कठोर हैं। यदि हम हमारे आसपास के लोगों की सराहना नहीं कर सकते तो स्वयं को भी नहीं सराह सकते। हर व्यक्ति जिसके संपर्क में हम आते हैं अथवा हम जो भी करते हैं हमें आशा से अधिक दयालु, अपेक्षा से अधिक उदार व जितना संभव हो उससे अधिक सकारात्मक
होना चाहिये। दूसरों से संपर्क का हर क्षण हमारे लिये हमारे उच्च मूल्यों को दर्शाने व हमारी सह्मदयता से प्रभावित करने का एक अवसर है। इस प्रकार हम एक समय एक व्यक्ति बेहतर इन्सान बनाकर विश्व को बेहतर बना सकते हैं।
4. रोज थोड़ा सुधार करें –
हम जिस प्रकार छोटे छोटे काम करते हैं उसी तरह सभी कार्य करते हैं। यदि हम छोटे छोटे काम अच्छी तरह से करते हैं तो बड़े काम में भी उत्कृष्ट ही रहेगें। इस प्रकार उत्कृष्ट निष्पादन हमारी आदत बन जाती है। इससे भी अधिक यह जानना जरूरी है कि हमारा हर प्रयास अगले कदम की आधारशिला है, इस प्रकार हम थोड़ा थोड़ा करके विशाल उपलब्धि प्राप्त कर सकते हैं, हमाराआत्मविश्वास बढ़ता है और हम असाधारण सपनों को साकार कर सकतें है। बुद्धिमान लोग यह समझते हैं हर रोज थोड़ा सा सुधार लम्बे समय में अनअपेक्षित सफलता के शिखर पर पहुँचाते है।
5. अच्छे से अच्छा जीवन जियें व अच्छे से अच्छा काम करें –
कोई भी काम छोटा नहीं होता है। हर परिश्रम हमारी प्रतिभा दर्शाने , एक कलाकृति बनाने, व हमारी क्षमता दिखाने का एक मौका होता है। हमें पिकासो की तरह लगन, समर्पण, दिल से व उत्कृष्टता से हमारा काम करना चाहिये। इस प्रकार न केवल हमारी उत्पादकता दूसरों के लिये प्रेरणा स्त्रोत बन जायेगी बल्कि हमारे आसपास के लोगों के जीवन को भी प्रभावित करेगी। जीवन को सुन्दरतम तरीके से जीने का सबसे बड़ा रहस्य यही है कि हम वही करें जो हमारे लिये मायने रखता हो, तथा उसमें इतनी दक्षता प्राप्त कर लें कि देखने वाले हम पर से नजर नहीं हटा पायें।
6. अपना वातावरण स्वयं चुनें –
हम अपने आप को हमारे आसपास के वाताववरण से अलग नहीं कर सकते हैं। इसलिये हमें हमेशा सचेत रहना चाहिये कि हम किस वस्तु अथवा व्यक्ति से प्रभावित हों। यह एक बुद्धिमता की निशानी है कि हम वही जगह चुनें जो हमें प्रोत्साहित करे अथवा उर्जा प्रदान करे व ऐसे लोगों का साथ चुनें जो हमारा उत्साह वर्धन करे व प्रगति में सहायक हों। हमारे कार्य स्थल या व्यक्तिगत जीवन में यही सकारात्मक मित्र अथवा साथी हमे हमारे चरम उत्कर्ष तक पहुँचाने में मददगार होगें।
7. छोटी छोटी खुशशियों का आनंद लें –
अधिकतर लोग उनके लिये सबसे अधिक महत्वपूर्ण जीवन में क्या है तभी जान पाते है जब बहुत देर हो चुकी होती है, तब वे इस बारे मे कुछ भी नहीं कर सकते हैं। वे अपने जीवन के सबसे महत्वपूर्ण समय को ऐसी चीजों को प्राप्त करने में लगा देतें है जिसका महत्व अंत में नगण्य है। समाज हमें हमारे जीवन को भौतिक वस्तुओं से भर लेने की ओर आकर्षित करता है, किन्तु हमारा अन्तस
जानता है कि वास्तविक खुशी वही है जो हमें उत्कृष्टता की ओर ले जाये व हमें आगे बढ़ने में सहायता करे। हमारी वर्तमान परिस्थितियाँ कितनी ही अनुकूल अथवा कठिन हों, हम सभी के पास ढेरों छोटी छोटी खुशियाँ बिखरी रहती है जिनको हम गिन सकते हैं। जैसे ही हम इन खुशियों का हिसाब रखने लगते है हमारा जीवन खुशियों से भर जाता है। हमारा मन आभार से भर जाता है, व
हमारा हर दिन एक बड़ा उपहार सा लगने लगता है।
8. जीवन का लक्ष्य प्रेम है –
हम कितना अच्छा जीवन जीते हैं यह इस पर निर्भर करता है कि आपके मन में कितना प्यार है। हमारा दिल दिमाग से अधिक समझदार है, उस पर भरोसा करें व उसकी बात मानें।
9. क्षमता से बड़े लक्ष्य को पाने का प्रयास करें –
पृथ्वी पर कोई भी अतिरिक्त व्यक्ति जीवित नहीं है, हममें से हरएक किसी न किसी उद्देश्य अथवा कार्य विशेष से यहाँ है। इसलिये अपने स्वयं व उनके लिये जिन्हें आप बहुत प्रेम करते हैं अपने जीवन को सुन्दरतम बनाईये। खुश रहें और जीवन का खूब आनंद लें। सिर्फ अपनी शर्तों पर सफलता प्राप्त करें, ना कि समाज द्वारा सुझाई गई शर्तों पर। इससे भी अधिक जरूरी है कि अपने आप को
महत्वपूर्ण बनायें। स्वयं को उपयोगी बनायें, व अधिक से अधिक लोगों की सहायता करें। इस प्रकार हम में से हरएक साधारण जीवन से असाधारण उँचाईयों  तक पहुँच सकते हैं व एक मिसाल कायम कर सकतें हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *