जीवन रहस्य (रान्डा बर्न की पुस्तक रहस्य पर आधारित मंजुल पब्लिशिंग हाउस भोपाल, द्वारा प्रकाशित)

प्रायः हर व्यक्ति के जीवन में उतार चड़ाव आते हैं। कई बार परिस्थितियाँ इतनी खराब हो जाती हैं कि चारों ओर अन्धकार दिखाई देने लगता है। आइये ऐसा क्यों होता है इसे समझने का प्रयास करते है।
1. ब्रम्हांड में सभी लोगों के लिये पर्याप्त मात्रा में इच्छित वस्तुएें उपलब्ध हैं। इनका मिलना अथवा न मिलना हमारे सोच पर निर्भर है। हमारे विचारों के अनुरूप हम ब्राम्हांड में सकारात्मक अथवा नकारात्मक तरंगे प्रेषित करते है। सकारात्मक सोच इच्छित वस्तुओं को हमारी ओर आकर्षित करती है तथा नकारात्मक सोच उनको हमसे दूर। उदाहरण के तौर पर मेरे पास ये वस्तु नहीं है यह एक नकारात्मक विचार है। मेरे पास यह वस्तु आयेगी यह एक सकारात्मक विचार है।
1.सकारात्मक व नकारात्मक विचार पहचानने का सबसे सरल उपाय है अपने भावों को पहचानना। जब आप अच्छा महसूस करते हैं तब आप सकरात्मक सोच रहे होते हैं। तथा जब आप बुरा महसूस करते हैं तो नकारात्मक सोच रहे होते हैं।
सुखद यादें, सुन्दर प्राकृतिक दृश्य अथवा पसन्दीदा संगीत सकारात्मक सोच को बढ़ावा देने में सहायक हैं। प्रेम भाव सबसे शक्तिशाली सकारात्मक सोच है। इसे आप जितना महसूस अथवा प्रेषित करेगें उतने ही अधिक सकारात्मक संदेश आप ब्रम्हांड में भेजेगें।
2.रचनात्मक प्रक्रिया के तीन प्रमुख पहलू हैं-
इच्छा करें – इसका मतलब आपको अपने मस्तिष्क में स्पष्टरूप से यह जानना है कि आप क्या चाहते हैं
भरोसा करें – इसका मतलब है कि आपके कार्य, आपके विचार तथा आपकी बातचीत में अपनी वांछित वस्तु को पा लेने का भरोसा दिखना चाहिये।
प्राप्त करें – इसका अर्थ आपको इस प्रकार महसूस करना है जैसा आप अपनी इच्छित वस्तु को प्राप्त करने के बाद महसूस करेगें। रचनात्मक प्रक्रिया को परखने का सबसे सरल उपाय यह है कि आप छोटी छोटी जैसे एक कप चाय अथवा पार्किंग को पाने से कर सकते है। आपका विश्वास पक्का हो जाने पर आप बड़ी वस्तुओं को भी प्राप्त कर सकेगें।
3. उम्मीद एक प्रबल आकर्षण शक्ति है। कृतज्ञता सकारात्मक ऊर्जा पैदा करने वाला एक शक्तिशाली उपाय है। धन्यवाद ज्ञापन कृतज्ञता दर्शाने का सबसे सरल तरीका है। इच्छित वस्तुओं की तस्वीर में कल्पना करना तथा इस तरीके अपनी मनचाही वस्तुओं का आनंद महसूस करना सशक्त सकारात्मक ऊर्जा पैदा करते हैं। यह प्रक्रिया दोहराते रहें। रात को सोते समय दिनभर की घटनाओं को याद कें तथा सिर्फ अच्छी चीजों को ही याद रखने का प्रयास करें।
4. आप मान कर चलें कि आप के पास पर्याप्त धन व सुख है। सुपात्र को दान देने व संकट में पड़े लोगों की सहायता में खुशी महसूस करें।
5. सुनिश्चित करें कि आपके कर्म, विचार, शब्द व परिवेश आपकी इच्छाओं का विरोध नहीं करें। स्वयं से प्रेम व सम्मान का व्यवहार करें, तभी आपको ऐसे लोग मिलेंगें जो आपको प्रेम व सम्मान देगें। मिलने वाले लोगों के गुणों पर ध्यान दें। जब आप शक्तियों पर ध्यान देते हैं तो आप स्वयं की ओर शक्ति आकर्षित करते हैं।
6. हँसना व खुश रहना सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करती है। इस प्रकार की ऊर्जा हमें स्वस्थ रखने के लिये जरूरी है। बुढ़ापे व बीमारी के बारे में समाज में व्याप्त भ्रामक बातों पर ध्यान न दें। सेहत व जोश पर ध्यान केन्द्रित करें।
7. किसी वस्तु का विरोध एक नकारात्मक विचार है। विरोध, समस्याओं व नकारात्मक घटनाओं पर ध्यान देने के बजाय विश्वास, प्रेम, शान्ति, शिक्षा पर मन लगायें। कमी के बजाय प्रचुरता पर ध्यान को केन्द्रित करें। इस प्रकार आप ब्राम्हांड के असीमित साधनों को अपनी ओर आकर्षित
करने की अपनें में सामर्थ पैदा कर सकते हैं।
8. अतीत की मुश्किलों, सामाजिक कुप्रथाओं व सांसकृतिक पंरम्परा के बंधन से मुक्त होकर ही आप उस जीवन का निर्माण कर सकते हैं जिसके आप हकदार हैं। आपकी शक्ति आपके विचारों में है यह हमेशा याद रखें।
रहस्य संक्षेप-
– आपके जीवन में मन चाही चीजें प्राप्त करने के असीमित अवसर हैं।
– आपको सिर्फ अच्छा महसूस करना है।
– आपकी शक्ति का इस्तेमाल आपकी ओर उर्जा खींचेगा।
– सीमित करने वाले विचारों को छोड़ कर सृजन पर ध्यान दें।
– जिस काम से खुशी मिलती हो वह करें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *