हमारा भारत स्वतन्त्र है

स्कूल में हमें स्वतन्त्र भारत के बारे में पढ़ाया था,
सरकार को जनता के लिये जनता के द्वारा बताया था।
लेकिन वास्तव में मतलब आज समझ में आया है,
सरकार ने सही मायनों में देश को स्वतन्त्र बनाया है।
सरकार कड़े नियम बनाने के लिये स्वतन्त्र है,
किन्तु अपराधी भी अपराध करने को स्वतन्त्र है।
राजनेता विकास के नाम पर जेब भरने को स्वतन्त्र है,
व्यापारी मनचाही कीमत छापने के लिये स्वतन्त्र है।
बाहुबली सरकारी संपत्ति को अपना समझने को स्वतन्त्र है,
धर्म गुरू जनता को बहलाने के लिये स्वतन्त्र है।
अफसर गण मनमानी करने के लिये स्वतन्त्र है,
जनता पैसे से मनचाहा काम करवाने को स्वतन्त्र है।
सरकार ने जनता को असीमित अधिकार दे दिये हैं,
अधिकारों के प्रचार में अपने सारे साधन झोंक दियें है।
जनता को जानकारी हाँसिल करने का अधिकार है।
सभी भारतवासियों को भोजन का अधिकार है।
किसानों को आत्म हत्या का अधिकार है,
व्यापारियों को मिलावट का अधिकार है।
बदमाशों को लूटपाट करने का अधिकार है,
पुलिस को खुली छूट देने अधिकार है।
सभी बच्चों को शिक्षा पाने का अधिकार है,
स्कूलों को मनमानी फीस लेने का अधिकार है।
जन प्रतिनिधियों को हंगामा करने का अधिकार है,
पत्रकारों को पैसे लेकर खबर बनाने का अधिकार है।
जनता को वोट डालने का अधिकार है,
चुनने के बाद नेताओं को वादे भूलने का अधिकार है

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *