बीएचईएल का देश के तकनीकी विकास में योगदान

 

विज्ञान ने विद्युत उर्जा के रूप में मनुष्य की जीवन शैली को उत्कृष्ट बनाने के लिये सबसे बड़ा उपहार दिया है। प्रति व्यक्ति विद्युत उर्जा खपत किसी भी देश के विकास व संपन्नता का पैमाना है। किसी भी देश के विकास को गति देने के लिये विद्युत उर्जा का उपलब्ध होना जरूरी है। अतः यह स्वाभाविक था कि स्वतन्त्रता के बाद भारत की आर्थिक विकास को दिशा देने वाले महान सलाहकारों ने बुनियादी आधार खड़ा करने में विद्युत उर्जा को उचित महत्व दिया। यही कारण था कि 1956 में एचईआईएल (हिन्दुस्तान इलेक्ट्रिकल इन्डस्ट्रीज लिमिटेड) की नींव भोपाल में रखी गई, जो आज देश की एक प्रमुख विद्युत उपकरण उत्पादक व इन्जीनीयरिंग कारपोरेशन बीएचईएल का अंग है। बीएचईएल को स्थापित करने का मुख्य उद्देश्य भारत को विद्युत उर्जा के उत्पादन, संप्रेषण व उपयोग के सभी क्षेत्रों में आत्म निर्भर बनाना था। अपने लगभग 60 दशकों के सफर में बीएचईएल ने अपने मूल उद्देश्य की पूर्ती का सशक्त प्रयास किया है।
अभी तक 1000 से अधिक हाइड्रो, थर्मल, गैस, न्यूक्लियर आदि विद्युत उत्पादक संयन्त्रों, जिनकी उत्पादन क्षमता लगभग 1,24,000 मेगीवाट है, की पूर्ती के अतिरिक्त बीएचईएल ने देश के औद्योगिक विकास में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इनमें से प्रमुख हैं रिफाईनरी, पेट्रोकेमिकल, फर्टीलाइजर, सीमेन्ट, पेपर, स्टील, माइनिंग, अल्यूमिनीयम व रेल्वेज।
इस प्रक्रिया में बीएचईएल न सिर्फ इन क्षेत्रो में उच्च गुणता के उत्पादों की पूर्ती की वरन स्वयं को को एक वि·ास्तरीय उपकरण डिजाइनर, सिस्टम इन्ट्रीगेटर, प्लान्ट इन्स्टालेशन, फील्ड मेनटेनेन्स आदि क्षेत्रों में एक विशेषज्ञ के रूप में स्थापित किया। इस प्रकार बीएचईएल ने अपनेआप को ग्राहक की अपनी आवश्यकता के अनुसार एक प्रतिष्ठित समग्र समाधान प्रदान करने वाले एक इन्जीनियरिंग संस्थान के रूप में स्थापित किया।
बीएचईएल की इस उपलब्धी का सबसे प्रमुख कारण है कि उसने कभी भी अपने दायरे को संकुचित न रखकर संपूर्ण प्लान्ट की पर्फारमेन्स को सुधारने पर ध्यान केन्द्रित किया। इस प्रकार बीएचईएल ग्राहकों को अन्य कई संबन्धित क्षेत्रों में समसामयिक तकनीक प्रदान कर सकी। परिणाम स्वरूप जैसे जैसे ग्राहकों की विविधता बढ़ती गई बीएचईएल के तकनीकी क्षेत्र के
दायरे का विस्तार होता रहा। इसी सोच का परिणाम है कि आज बीएचईएल एक छोटे इलेक्ट्रोमेगनेटिक रिले से लेकर 1000 मेगावाट टर्बोजनेरेटर, छोटे से स्पेस ग्रेड के सोलर सेल से लेकर संपूर्ण प्लान्ट के लिये साफिस्टीकेटेड माइक्रोप्रोसेसर बेस्ड कंट्रोल, छोटी मशीन टूल के कंन्ट्रोलर से लेकर संपूर्ण रोलिंग मिल के कंट्रोल, छोटे इलेक्ट्रिक वेहिकल से लेकर पूरे लोकोमोटिव तक बनाने में सक्षम है।
बीएचईएल के विकास के इस सफर को मूलतः चार चरणों में बाँटा जा सकता है
1. प्रथम चरण (1960-70)
इस चरण में हमने विद्युत उर्जा उत्पादन के लिये सभी उपकरण जैसे बायलर, थर्मल व हाइड्रो टरबाइन, ट्रान्सफार्मर, मोटर्स, स्विचगियर आदि के लिये उत्पादन, एरेक्शन, कमीशनिंग व मेन्टेनेन्स के जरूरी लिये कुशलता स्वदेश में सफलतापूर्वक स्थापित की। साथ ही बीएचईएल ने यह भी प्रयास किया कि आवश्यक सामग्री जैसे काÏस्टग, फोर्जिंग, कापर, स्टील, इन्सुलेशन आदि के लिये स्वदेश में ही उत्पादन व प्रोसेसिंग क्षमता विकसित हो।
2. दूसरा चरण (1970 – 85)
इस चरण में देश में ओद्योगिक विकास ने गति पकड़ी, जिसके फल स्वरूप कई प्रकार के प्रोसेस उपकरणों व उनके लिये कन्ट्रोल्स की माँग बढ़ी। साथ ही बड़ी मात्रा में बिजलीघरों से उद्योग केन्द्रों तक पावर प्रेषण की भी जरूरत महसूस की गई। बीएचईएल ने इस चरण में कई नये उत्पाद व तकनीक का सफलतापूर्वक विकास किया। इनमें से प्रमुख है, 400 के वी ट्रन्समिशन सिस्टम उपकरण, ओद्योगिक मोटर्स की बड़ी रेन्ज, प्रोसेस उद्योग के लिये बड़े रेक्टीफायर्स, आइलरिग कन्ट्रोल, रेल ट्रान्पोरटेशन उपकरण व स्टील, सीमेंट, पेपर आदि उद्योगों के लिये ड्राइव कन्ट्रोल्स। इसी चरण में बीएचईएल ने स्टेटिक (थायरिस्टर) कन्ट्रोल का उपयोग कर वेरियेबल स्पीड ड्राइव का भी विकास किया जिससे उत्पादकता व एफिशियेन्सी में गुणात्मक सुधार हुआ।
3.तृतीय चरण (1985 – 90)
इस चरण में बीएचईएल ने विकसित तकनीकों को सुधारने व तकनीकी विकास में स्वयं को आत्मनिर्भर बनाने पर ध्यान केन्द्रित किया। पहले दो चरणों के अनुभव व तकनीकी ज्ञान के आधार पर बीएचईएल आरएन्डी पर जोर देकर अपनी तकनीक में सुधार किये तथा नये क्षेत्रों का विकास किया। इस चरण की
प्रमुख उपलब्धियाँ रही, सेमीकन्डक्टर टेक्नालाजी स्थापित करना, सिरीज व शन्ट काम्पेन्शेसन व एच वी डी सी ट्रान्समिशन। रिन्यूएबल उर्जा तकनीक जैसे विन्ड अथवा सोलर भी इसी चरण की देन है। अन्य क्षेत्र जिनपर ध्यान दिया गया वे है माइक्रोप्रोसेर बेस्ड
कन्ट्रोल, ट्रेनिंग सिमुलेटर्स, वाटर डिसेलिनेशन प्लान्ट, केथोडिक प्रोटेक्शन आदि। इन प्रयासों के चलते बीएचईएल को वि·ा में एक पहचान मिली व बीएचईएल ने कई निर्यात के आदेश वि·ा की अग्रणी कंपनियों से प्रतियोगिता कर हाँसिल किये।
4. चौथा चरण 1991 से आगे
आर्थिक उदारता के इस चरण में बीएचईएल की परिपक्वता को परीक्षा से गुजरना पड़ा। हमारे ग्रहकों के पास दुनियाँ की अच्छी से अच्छी तकनीक प्राप्त करने की स्वतंत्रता थी। बीएचईएल ने इस चरण में भी अपने को अग्रणी बनाये रखा। साधनों की कमी के कारण पुराने प्लान्टो को अपग्रेड करने व उनकी लाइफ बढ़ाने की जरूरत थी बीएचईएल ने उचित तकनीक का विकास किया। तकनीकी विकास का प्रयास आज भी जारी है। कुछ महत्वपूर्ण उपलब्धियाँ इस प्रकार हैं।
– गैस बेस्ड पावर प्लान्ट
– पम्प स्टोरेज हाईड्रो स्कीम्स
– फास्ट ब्राीडिंग रियेकटर टरबाईन
– इनट्रीगेटेड गेसिफिकेशन एन्ड कम्बाइन्ड सायकल पावर प्लांट
– सर्कुलेटिंग फ्लुडाइजड बेड बायलर
– सुपर क्रिटिकल टेम्पेरेचर थर्मल प्लान्ट
विकास की इस प्रक्रिया में बीएचईएल ने कई महत्वपूर्ण अनुसन्धान संस्थान व केन्द्र खोलें हैं। जिनमें प्रमुख हैं विकास व अनुसंधान संस्थान हैदराबाद, वेÏल्डग रिसर्च इन्स्टीट्यूट त्रिची, एयर पाल्यूशन केन्द्र रानीपेट, पाल्यूशन कंट्रोल केन्द्र हरद्वार, हाइड्रो लैब भोपाल, सेन्टर फार इलेक्ट्रिक ट्रान्सपोर्ट भोपाल व सिरामिक टेकनालाजी इन्स्टीट्यूट बैंगलौर। विकास व अनुसंधान संस्थान हैदराबाद ने हीट ट्रान्सफर, मेटालर्जी, पावर सिस्टम्स, इलेक्ट्रोनिक्स, ट्रान्समिशन, प्लान्ट लाइफ असेसमेन्ट व एक्सटेन्शन व फेल्युयर एनेलिसिस के क्षेत्रों महत्वपूर्ण योगदान दिया है। इसके अतिरिक्त बीएचईएल के हर प्लान्ट में आवश्यकता अनुसार रिसर्च केन्द्र हैं। बीएचईएल देश का शायद एक मात्र औद्योगिक संस्थान है जो सकल उत्पाद का लगभग 2.5 प्रतिशत आरएन्डडी पर खर्च करता है।
इस से भी अधिक महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि बीएचईएल लाखों की संख्या मे कुशल कारीगर, विषेशज्ञ इन्जीनियर्स तथा तकनीकी लीडर्स व प्रबन्धक न सिर्फ अपने लिये वरन देश के कई अग्रणी संस्थानों के लिये भी तैयार किये।
यह इसी दूरदर्शिता का परिणाम है कि आज भी बीएचईएल विश्व की अग्रणी इन्जीनीयरिंग व इलेक्ट्रिकल उपकरणों की आपूर्तीकर्ता के रूप में जानी जाती है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *